रायपुर। ‘छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी, नरवा-गरुवा, घुरुवा-बारी, एला बचाही कांग्रेस संगवारी’, इस नारे के साथ कांग्रेस ने पथरी गांव से अपने अभियान की शुरुआत की। पथरी गांव स्वतंत्रता सेनानी खूबचंद बघेल की जन्मभूमि है। बघेल ने कहा, आज पूरे प्रदेश में शराब की नदी बह रही है। किसान पलायन नहीं, आत्महत्या करने को मजबूर हैं।ऐसे समय में छत्तीसगढ़ की चिन्हारी को संरक्षित करने से ही प्रदेश में समृद्धि आएगी और छत्तीसगढ़ के किसान को दूरगामी लाभ होगा। उन्होंने ग्रामीणों से कांग्रेस की सरकार बनाने की अपील करते हुए कहा, ऐसा होगा तो हम शराब नहीं, दूध की नदी बहाएंगे।

उन्होंने कहा, कांग्रेस की सरकार में नरवा यानी सिंचाई के लिए विशेष ध्यान दिया जाएगा। कांग्रेस की सरकार सिंचाई क्षमता बढ़ाने पर ध्यान देगी। पशुधन का संरक्षण किया जाएगा। खेती-बाडी को उन्नत बनाया जाएगा।