MP:रिटायर्ड आईजी के बेटे-बहू ने तीन माह से सौतेली मां और मौसी को बना रखा था बंधक

भोपाल. रिटायर्ड जेल आईजी के बेटे-बहू द्वारा बुजुर्ग सौतेली मां और मौसी (मां की मौसेरी बहन) को घर में बंधक बनाकर रखने का मामला सामने आया है। मां और मौसी को घर से बाहर निकलने और किसी से मिलने की इजाजत नहीं थी। दोनों तीन महीने से कैद थीं।

बेटा-बहू उन्हें नौकरों के भरोसे छोड़कर बच्चों के पास अमेरिका गए हैं। मामले का खुलासा तब हुआ, जब छोटा भाई, अपनी बहन से मिलने पहुंचे, लेकिन नौकर व नौकरानी ने मिलने नहीं दिया। भाई की शिकायत पर पहुंची पुलिस ने दोनों को मुक्त कराकर नौकर-नौकरानी को गिरफ्तार कर लिया है।

 
शाहजहांनाबाद थाना प्रभारी जहीर खान के मुताबिक फतेहगढ़ निवासी 65 वर्षीय रजी उज जफर ने शिकायत की थी कि उनकी बड़ी बहन 85 वर्षीय रजिया सुल्तान ईदगाह हिल्स में अपने सौतेले बेटे खालिद हसन और बहू शाहना खालिद के साथ रहती हैं। उनके साथ उनकी बहन की बेटी राना सुल्तान भी रहती हैं। जब वे अपनी बहन से मिलने जाते थे तो नौकर अब्दुल लईक और नौकरानी रुक्मणी बाई द्वारा उनसे मिलने नहीं दिया जाता था।

मानसिक और शारीरिक स्थिति खराब

दोनों को घर में बंधक बनाकर रखा गया, जिससे उनकी मानसिक और शारीरिक स्थित खराब हो रही है। सीएसपी एनके पटेरिया के अनुसार रशीद उल हक करीब 25 साल पहले जेल आईजी के पद से रिटायर हुए थे। उनका बेटा खालिद हसन जेद्दा में जाॅब करता है। इन दिनों वे अपनी पत्नी शाहना खालिद के साथ बच्चों के पास अमेरिका गए हुए हैं। पुलिस उनसे संपर्क करने की कोशिश कर रही है। उनसे बातचीत होने के बाद ही स्पष्ट होगा कि रजिया और राना को बंधक बनाकर क्यों रखा गया था।

पुलिस को भी नहीं आने दे रहे थे घर के अंदर…
बुधवार को जब रजी उज जफर के साथ पुलिस की टीम पहुंची तो अब्दुल लईक और रुक्मणी ने उन्हें भी घर के अंदर प्रवेश नहीं करने दिया। पुलिस ने जब सख्ती दिखाई तो दरवाजा खोला गया। अंदर एक कमरे में रजिया और राना डरी सहमी मिलीं। दोनों बोलने की स्थिति में नहीं थी। पुलिस ने रजिया और राना को रजी उज जफर के सुपुर्द कर दिया। 

छत के रास्ते घर में घुसी पुलिस, खुलवाए 15 ताले
पुलिस ने पहले नौकर लईक को कॉल किया। उसने बताया कि वह एयरपोर्ट के पास है। इसके बाद उसने मोबाइल बंद कर लिया। घर पहुंची टीम को मुख्य द्वार पर बाहर से ताला लगा मिला। टीम बगल के घर से छत के रास्ते अंदर दाखिल हुई। एक कमरे में लईक और नौकरानी रुक्मणी छिपे थे। पुलिस ने उनसे दोनों महिलाओं के बारे में पूछा तो वे चुप रहे। इसके बाद पुलिस ने घर के 15 ताले खुलवाए। एक कमरे में दोनों महिलाएं कमजोर और तनाव में थीं।

नौकर बोले- सुरक्षा के लिहाज से बंद किए थे

नौकरों ने बताया कि वे इन्हें सुरक्षा के लिहाज से घर के अंदर बंद करके रखते थे। वे कहते हैं कि उन्होंने रजिया के बेटे खालिद के कहने पर ऐसा किया था।