No2politics

Stay connected, stay informed

madhya pradesh

मध्यप्रदेश के नए राज्यपाल टण्डन भोपाल आए, कल लेंगे शपथ

 

मध्यप्रदेश के नए राज्यपाल टण्डन भोपाल आए, कल लेंगे शपथ

भोपाल। मध्यप्रदेश के नए राज्यपाल लालजी टण्डन कल सुबह 11 बजे शपथ लेंगे। वे स्पेशल प्लेन से रविवार दोपहर बाद भोपाल आए। स्टेट हैंगर पर बीजेपी नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों ने उनकी अगवानी की। टण्डन इससे पहले बिहार के राज्यपाल थे। वहीं प्रदेश की गवर्नर रहीं आनंदी बेन पटेल भी कल उत्तरप्रदेश के राज्यपाल का पद संभालेंगी।

image38

‘लॉ ब्रेकिंग पीपुल’ से डरी आईएफएस एसोसिएशन

 

भोपाल। मध्यप्रदेश आईएफएस एसोसिएशन भी खूब है। पहले इसने प्रदेश के वन मंत्री उमंग सिंघार को भी इशारों-इशारों में लॉ ब्रेकिंग पीपुल (कानून तोड़ने वाले लोग) मानते हुए ऐसे लोगों के खिलाफ रणनीति बनाने के लिए भारतीय वन सेवा अधिकारियों की बड़ी बैठक बुलाई और जब विभाग में हंगामा मचा तो बैठक ही रद्द कर दी। बताया जाता है कि एजेंडा लीक होने की वजह एसोसिएशन को यह निर्णय लेना पड़ा। 

भारतीय वन सेवा संघ की साधारण सभा की बैठक वर्तमान कार्यकारिणी ने आज शाम फारेस्ट रेस्ट हाउस में रखी थी। इसमें संघ की नई कार्यकारिणी का चुनाव भी होना था। एसोसिएशन के सभी सदस्यों को इस बैठक की पूर्व सूचना देने के साथ ही संघ ने इस दौरान कुछ ज्वलंत मुद्दों पर चर्चा कर आगे की कार्ययोजना बनाने की जानकारी भी सदस्यों को दी थी। लेकिन बैठक से एक दिन पहले ही इसे आगे बढ़ाने की सूचना सभी सदस्यों को दे दी गई है। 

आईएफएस एसोसिएशन साधारण सभा में चुनाव के अलावा जिन प्रमुख मुद्दों पर विचार-विमर्श करना चाहता है, उनमें सबसे प्रमुख एजेंडा बिंदु प्रदेश में कार्यरत आईएफएस अफसरों को स्थानीय और राज्य स्तर पर मिल रही चुनौती है। संविधान के मुताबिक अपनी ड्यूटी पूरी करने के दौरान आने वाली इन बाधाओं से पार पाने के तरीकों पर इस बैठक में रणनीति बनाई जानी थी। इससे जुड़ा और सीधे विभागीय मंत्री उमंग सिंघार और सरकार चलाने वालों चुनौती देने वाला मुद्दा पिछले दिनों आईएफएस अधिकारियों को निशाना बनाने का है। एसोसिएशन ने अपने एजेंडा बिंदु में लिखा है कि बुरहानपुर, बैतूल, कटनी, पन्ना आदि स्थानों पर पदस्थ आईएफएस अधिकारियों को कुछ कानून तोड़ने वालों द्वारा निशाना बनाया जाना, विभाग के लिए चिंताजनक विषय है। ऐसे लोगों से लड़ने के लिए अधिकारियों का मनोबल बढ़ाने की रणनीति बनाया जाना जरूरी हो गया है। जिससे अधिकारी सक्षम बनें और प्राकृतिक संपदा की रक्षा की जा सके। यह एजेंडा लीक होने के बाद आला अधिकारियों के दबाव में एसोसिएशन को आज होने वाली साधारण सभा की बैठक स्थगित करनी पड़ी। इसकी अगली तारीख भी अभी घोषित नहीं की गई है। एसोसिएशन के अध्यक्ष बी.बी. सिंह बताते हैं कि साधारण सभा की बैठक अब सितंबर माह में हो सकती है, जब भोपाल में सीसीएफ कान्फ्रेंस होगी। जिससे ज्यादा लोग बैठक में भाग ले सकें। वे लॉ ब्रेकिंग पीपुल वाले एजेंडे को लेकर कहते हैं कि इससे वन मंत्री का कोई लेना देना नहीं है। यह उनके लिए है, जो कानून तोड़ कर जिलों में पदस्थ अफसरों पर दबाव बनाते हैं। इसमें प्रशासनिक और राजनीतिक दबाव भी हो सकता है।

image39